वीरेन्द्र सहवाग भारतीय टीम के एक शानदार ओपनर रहे हैं. उनको लोग वीरू के नाम से भी जानते हैं. वीरेन्द्र सहवाग ने वनडे क्रिकेट में अपना डेब्यू साल 1999 में जबकि टेस्ट क्रिकेट में साल 2001 में डेब्यू किया था. जिसके बाद वह भारतीय टीम के एक स्थायी सदस्य बन गये थे. इन्होंने भारतीय टीम के लिए बहुत से मैच जीताओ पारियां भी खेली है. ये टेस्ट क्रिकेट में 2 तिहरे शतक लगाने वाले भारत के इकलौते खिलाड़ी भी है.

वीरेन्द्र सहवाग का टेस्ट करियर

वीरेन्द्र सहवाग ने भारत के लिए 104 टेस्ट मैच की 180 पारी में 82.23 की स्ट्राइक रेट और 49.34 की औसत के साथ 8586 रन अपने नाम किये हैं. इस दौरान उन्होंने 32 अर्द्धशतक, 23 शतक और 6 दोहरे शतक भी जड़े हैं. वीरू का सर्वाधिक स्कोर 319 रन है.

वीरेन्द्र सहवाग

आज हम आपको अपने इस खास लेख में वीरेन्द्र सहवाग की उन 3 शानदार पारियों के बारे में बताएंगे, जिसकें वह एक स्टार बल्लेबाज बन गये थे.

वीरेन्द्र सहवाग की 3 सबसे शानदार पारी


3- 293 रन बनाम श्रीलंका

वीरेन्द्र सहवाग 

वीरेन्द्र सहवाग ने 2 से 6 दिसम्बर 2009 में मुंबई के ब्रेबोर्न स्टेडियम में श्रीलंका के खिलाफ खेले एक टेस्ट मैच में 293 रन की एक शानदार पारी खेली थी. इस पारी में वीरू में 82 ओवर की बल्लेबाजी की और श्रीलंका की पूरी टीम को पस्त कर दिया था. इस मैच में वीरेन्द्र सहवाग ने श्रीलंका के महान ऑफ़ स्पिनर मुरलीधारण की बहुत पिटाई की थी. वीरू ने मुरली की 76 गेंद का सामना किया जिसमें उन्होंने 84 रन बना डाले थे. 


2- 309 रन बनाम पाकिस्तान

वीरेन्द्र सहवाग 

वीरेन्द्र सहवाग को मुल्तान का सुलतान भी कहा जाता है. क्योंकि उन्होंने पाकिस्तान की धरती में पाकिस्तान के खिलाफ 309 रन की शानदार पारी खेली थी. वीरू 300 रन बनाने वाले भारत के पहले बल्लेबाज है.

साल 2004 में पाकिस्तान और भारत के बीच एक टेस्ट मैच खेला गया था. सीरीज के पहले ही मैच में भारत के स्टार बल्लेबाज वीरेन्द्र सहवाग ने 309 की शानदार पारी खेली थी. इस मैच में वीरू ने पाकिस्तान के स्पिनर सक्लेन मुश्ताक की बहुत पिटाई की थी. भारतीय टीम ने ये सीरिज अपने नाम की थी.


3- 319 रन बनाम साउथ अफ्रीका

वीरेन्द्र सहवाग 

 साल 2008 में भारत और साउथ अफ्रीका के बीच एक टेस्ट सीरिज चल रही थी. वीरेन्द्र सहवाग ने चेन्नई टेस्ट मैच में साउथ अफ्रीका के खिलाफ शानदार प्रदर्शन करते हुए. अपने करियर की सबसे बेहतरीन 319 रन की पारी खेली थी. इस पारी में वीरू ने मात्र 278 गेंद का सामना किया था.



Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.

नया पेज पुराने